Career in Film and Media Sector


 सूचना क्रांति के इस दौर में फिल्म व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का तेजी से विस्तार हो रहा है। मनोरंजन व न्यूज चैनलों में नियुक्ति के लिए प्रशिक्षित, कुशल व अनुभवी लोगों की आवश्यकता हमेशा बनी रहती है। फिल्म-टीवी क्षेत्र में कैरियर के ऐसे कई विकल्प हैं, जिसके लिए संस्थानों में विशेष ट्रेनिंग दी जाती है। टीवी पत्रकारिता में सिर्फ समाचार वाचक या रिपोर्टर ही नहीं होते, बल्कि कैमरे के आगे और कैमरे के पीछे भी और कई पद होते हैं। मसलन उद्घोषक (एंकर), असिस्टेंट प्रोडयूसर, प्रोडयूसर, एक्जीक्यूटिव प्रोडयूसर, फिल्म एडिटर, वीडियो एडिटर, साउंड रिकॉडिस्ट, ग्राफिक डिजाइनर, असिस्टेंट कैमरामैन, कैमरामैन आदि। फिल्म व टीवी प्रशिक्षण संस्थानों में इन पदों के लिए कई प्रकार के जॉब ओरिएंटेड कोर्स संचालित किए जा रहे हैं। फिल्म-टीवी से संबंधित जॉब ओरिएंटेड कोर्स करने के उपरांत प्रोडक्शन कंपनियों, फिल्म इंडस्ट्री, टीवी चैनलों आदि में नियुक्ति हो सकती है।


प्रोडक्शन : 

टेलीविजन इंडस्ट्री में काम करने के लिए कुछ खास स्किल्स जरूरी होते हैं। विभिन्न संस्थानों में चल रहे अलग-अलग कोर्सेज द्वारा छात्रों को इन स्किल्स की जानकारी दी जाती है। स्टूडेंट्स को प्रोग्राम प्रोडयूस करना, सिंगल कैमरा और मल्टीपल कैमरे का प्रयोग करना सिखाया जाता है। मीडिया वर्कशॉप में कैमरा ऑपरेशन, लाइटिंग, साउंड रिकॉर्डिंग, लीनियर और नॉन लीनियर एडिटिंग आदि चीजें सिखाई जाती हैं। कोर्स के बाद टेलीविजन डायरेक्टर, कैमरामैन या एडिटर बना जा सकता है। क्रिएटिविटी और विजुअलाइजेशन के अलावा अच्छी स्क्रिप्ट राइटिंग भी सिखाई जाती है। अधिकतर संस्थानों में प्रोडक्शन पाठयक्रमों में स्नातक छात्रों को प्रवेश दिया जाता है। कुछ संस्थानों से 10+2 के बाद भी प्रोडक्शन में डिप्लोमा तथा सर्टिफिकेट कोर्स किया जा सकता है।

टीवी जर्नलिज्म : 

टेलीविजन और रेडियो के फील्ड में ब्रॉडकास्टिंग का सबसे ज्यादा महत्व होता है। यह फील्ड काफी चैलेंजिंग है। ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म के लिए प्रेजेंटेशन और लिखने की योग्यता बहुत मायने रखती है। इस कोर्स के तहत न्यूज, स्क्रिप्ट राइटिंग, रिकॉडिंग, स्टोरी एडिटिंग, बुलेटिन बनाना और मैगजीन प्रोग्राम आदि सिखाया जाता है। पीजी डिप्लोमा में प्रवेश के लिए किसी भी विषय में गे्रजुएट और सर्टिफिकेट, डिप्लोमा कोर्स के लिए 10+2 होना चाहिए।

वीडियो ग्राफिक्स : 

इसके तहत टेक्निकल पहलू बताए जाते हैं और प्रोफेशनल फोटोग्राफी की पूरी ट्रेनिंग दी जाती है। इस कोर्स में वीडियो कैमरा तकनीक, वीडियो एडिटिंग के बारे में जानकारी दी जाती है। यह कोर्स भारत में बहुत कम जगह उपलब्ध है। फिल्म वीडियो संपादक का कार्य मूक एवं बोलते चित्रों का संपादन, ध्वनि रिकॉर्डिग डबिंग आदि का है। पाठयक्रम में प्रवेश के लिए स्नातक होना चाहिए।

सिनेमेटोग्राफी : 

यह मूवी फोटोग्राफी की कला या तकनीक है जिसमें शूटिंग और फिल्म की डेवलपमेंट दोनों शामिल हैं। सिनेमेटोग्राफर फिल्म के लिए लाइटिंग और फोटेाग्राफी के संबंध में फैसला करता है। यह सब इस तरह किया जाता है कि फिल्म में जो भी चीज दिखाई जानी है, वह देखने में सर्वश्रेष्ठ लगे। सिनेमेटोग्राफी अच्छी हुई तो ड्रामा अच्छा लगता है व फिल्म के मूड का पता चलता है। इस तरह सिनेमेटोग्राफर तकनीक के प्रभावी उपयोग से मूवी की अभिव्यक्ति की क्षमता का विस्तार करता है।

डायरेक्शन : 

निर्देशक (डायरेक्टर) के इशारे पर अभिनय, नृत्य, संगीत, संवाद सभी कुछ संभव होता है। बड़े पर्दे की फिल्मों के निर्माण में कई तरह के निर्देशक अहम भूमिका निभाते हैं। मसलन म्यूजिक डायरेक्टर संगीत की धुनों को दृश्य के अनुरूप तालमेल बिठाते हैं। नृत्य-निर्देशक व कोरियोग्राफर के इशारे पर नृत्य संपन्न होता है और फिल्म-निर्देशक के निर्देशन पर शॉट लिया जाता है। वास्तव में यह ऑल राउंडर किस्म का आकर्षक कैरियर है। इस कार्य क्षेत्र में फिल्म-निर्माण की सभी तकनीकी सूक्ष्मताओं व पहलुओं से परिचित होना आवश्यक है। डायरेक्शन में डिप्लोमा/पीजी डिप्लोमा (एक वर्ष) करने के लिए किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट होना आवश्यक है।

एक्टिंग : 

फिल्मों तथा धारावाहिकों में अभिनय के लिए आजकल काफी स्कोप है। फिल्म इंडस्ट्री के अलावा दूरदर्शन के विभिन्न चैनलों, प्रोडक्शन हाउस आदि में अभिनय करने के लिए योग्य प्रशिक्षुओं की जरूरत पड़ती है। एक्टिंग से संबंधित सर्टिफिकेट व डिप्लोमा पाठयक्रम करने के लिए फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया, पुणे सर्वाधिक चर्चित संस्थान है। यहां पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एक्टिंग (एक साल) पाठयक्रम में प्रवेश के लिए किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट होना आवश्यक है, जबकि निजी संस्थानों में प्रवेश के लिए 10+2 परीक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए।

संस्थान

फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया, लॉ कॉलेज रोड, पुणे-411004, फोन : 020-25431817, 15430017 एक्सटेंशन -223, ई-मेल : tutorial@ftiindia.com , वेबसाइट : www.ftiindia.com 
सत्यजीत रे फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीटयूट, ईस्टर्न मेट्रोपॉलिटन, बाईपास रोड, पीओ पंचसायर, कोलकाता-700094 
एशियन एकेडमी ऑफ फिल्म एंड टेलीविजन, मारवाह स्टूडियो कॉम्पलेक्स, एफसी-14/15, फिल्म सिटी, सेक्टर-16ए, नोएडा।
फोन : 0120-2515254, 2515255/56 
ई-मेल : help@aaft.com, वेबसाइट : www.aaft.com 
डिपार्टमेंट ऑफ फिल्म एंड टीवी स्टडीज (भारतीय विद्या भवन), कस्तूरबा गांधी मार्ग, निकट इंडिया गेट, नई दिल्ली-110001, फोन : 011-23389449, वेबसाइट : www.film-tvstudies.com

No comments:

Post a Comment